जहर से हुई थी दीपक खेमका की मौत!

0

JNI NEWS : 03-01-2014 | By : Jagendra | In : shahjahanpur news

— तीन मई 2012 को शहर के पैराडाइज होटल में मिला था
— छह लोगों पर पुलिस ने दर्ज किया था हत्या का मुकदमा
— विसरा की जांच रिपोर्ट में जहर से हत्या की हुई है पुष्टि
— पुलिस ने आज तक एक भी नामजद आरोपी को नहीं पकड़ा

mratak
शाहजहांपुर। आठ माह पूर्व शहर के पैराडाइज होटल में संदिग्ध हालात में मृत मिले दिल्ली के शेयर ब्रोकर दीपक खेमका की विसरा रिपोर्ट उसकी हत्या की ओर इशारा कर रही है। दिल्ली से दीपक के भाई भारत खेमका ने बताया कि उसके भाई की विसरा रिपोर्ट में जहर से मौत होना पाया गया है। हालांकि सीओ सिटी राजेश्वर सिंह और कोतवाल सदर आलोक सक्सेना ने अभी विसरा रिपोर्ट के बारे में अनभिज्ञता जताते हुए कहा कि विसरा रिपोर्ट कोर्ट में है।
बता दें कि दीपक खेमका मूलतः शाहजहांपुर सिटी के थाना कोतवाली अंतर्गत मोहल्ला मोहम्मदजई का रहने वाला था। उसका मोहम्मदजई में सुनहरी मस्जिद के पास मकान व दुकानों के अलावा अन्य प्रापर्टी भी थी। पिता गणेश खेमका की मौत के बाद दीपक खेमका अपनी मां मधु खेमका, पत्नी ज्योति खेमका, बच्चों और भाई भारत खेमका, नीरज व धीरज खेमका के साथ दिल्ली में सैटिल हो गया। दिल्ली में दीपक खेमका शेयर ब्रोकिंग करने लगा। दिल्ली में पूरा परिवार सेट हो जाने के कारण दीपक ने पैतृक घर बेचने के लिए लोगों से बातचीत शुरू कर दी। सुनहरी मस्जिद के सामने वाले मकान में कौशल वर्मा किराए पर रहते हैं। कौशल ने ही दीपक की मकान के ग्राहक रिजवान खां निवासी भानपुरा से बात कराई थी। सौदा पंद्रह लाख में तय हुआ। 30 अप्रैल को रिजवान ने दीपक खेमका की मां से बैनामा करा लिया और साढ़े पांच लाख की पेमेंट देकर बाकी रकम अगले दिन देने को कहा। बैनामा होने के बाद दीपक ने एक मई को मां को अपने भाई भारत खेमका के साथ दिल्ली भेज दिया और बाकी पेमेंट लेने के लिए खुद स्टेशन रोड पर पैराडाइज होटल के कमरा नंबर 206 में ठहर गया। अगले दिन भी रिजवान ने पेमेंट नहीं दिया तो दीपक होटल में ही ठहरा रहा। दो मई की रात साढ़े ग्यारह बजे तक दीपक की अपनी पत्नी ज्योति से बात होती रही। अगले दिन यानी तीन मई की सुबह आठ बजे ज्योति ने दीपक को फोन किया तो काल रिसीव नहीं हुई। दर्जनों बार काल करने पर भी जब फोन रिसीव नहीं हुआ तो परिवार वाले परेशान हो गए। इसी के साथ अनहोनी की आशंका से ग्रस्त परिवार वहां से शाहजहांपुर के लिए चल दिया। होटल के कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था। रात नौ बजे पुलिस की मौजूदगी में दरवाजा खोला गया तो सभी सन्न रह गए। आशंका सही निकली। दीपक का शव बाथरूम में कमोड पर पेट के बल पड़ा था। भारत खेमका के मुताबिक दीपक के शरीर पर चोटों के निशान भी थे। पुलिस ने शव का पीएम कराया तो चोटों के निशानों को पुलिस पचा गई। डाक्टरों ने विसरा प्रिजर्व कर मामला लटका दिया। अब आठ माह बाद विसरा की रिपोर्ट आ गई है। दीपक खेमका के भाई भारत खेमका ने दिल्ली से फोन पर बताया कि उसके भाई की विसरा रिपोर्ट आ गई है जिसमें उसकी मौत जहर से होने की पुष्टि हुई है। हालांकि यहां के अधिकारी अभी इसकी पुष्टि नहीं कर रहे हैं।
बता दें कि दीपक की जेब से एक कागज बरामद हुआ था, जिसमें उसने लिखा था कि वे लोग उसका पेमेंट देने में आनाकानी कर रहे हैं और उसे धमकियां दी जा रही हैं। उसने धमकी देने वालों के नाम व मोबाइल नंबर भी लिखे थे। थाना सदर बाजार पुलिस ने भारत खेमका की तहरीर पर रिजवान खां, अंजुम खां, कौशल वर्मा, अनीस, सरताज खां व सोनू खां के खिलाफ धारा 302 के तहत रिपोर्ट कर ली थी, लेकिन किसी को अरेस्ट नहीं किया था। खास बात यह है कि जिस होटल पैराडाइज में दीपक मृत मिला, वह भी संदेह के घेरे में है। पुलिस के अनुसार कुछ समय के लिए होटल के सीसीटीवी कैमरे की फुटेज धुंधली थी। भारत खेमका आरोप है कि सीसीटीवी कैमरे की फुटेज से भी खिलबाड़ की गई। भारत खेमका का कहना है कि विसरा रिपोर्ट में जहर की पुष्टि होने के बाद अब यह तय है कि होटल में ही उसके भाई की जहर देकर हत्या की गई।

इस लेख/समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया लिखें-