रोजगार सेवकों पर दर्ज मुकदमे वापस करो

0

JNI NEWS : 10-02-2014 | By : Jagendra | In : shahjahanpur news

rojgaarशाहजहांपुर। तिलहर में पानी की टंकी पर चढ़कर प्रशासन को चुनौती देना रोजगार सेवकों को महंगा पड़ रहा है। मानदेय की लड़ाई लड़ते लड़ते अब उन्हें अपने साथी कर्मचारियों को पुलिस के शिकंजे से बचाने के लिए जूझना पड़ रहा है कभी विरोध करके तो कभी गुहार लगाकर।
कई दिनों से जनपद के सभी ब्लाक कार्यालयों पर धरना प्रदर्शन कर रहे रोजगार सेवकों ने सोमवार को कलेक्ट्रेट पहुंचकर डीएम को ज्ञापन दिया। तीन दिन पहले तिलहर में रोजगार सेवकों ने कांशीराम कालोनी की पानी टंकी पर चढ़कर प्रशासन को मुश्किल में डाल दिया था। इस मामले में तिलहर पुलिस ने सोलह रोजगार सेवकों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करते हुए खुदागंज के ब्लाक अध्यक्ष कैनन अंसारी को अरेस्ट कर जेल भेज दिया। अब पुलिस बाकी रोजगार सेवकों को तलाश करती घूम रही है। अपने साथियों को कानूनी पचड़े से बचाने के लिए अब पूरा संगठन मैदान में है। आज मंडल अध्यक्ष ललितेश शास्त्री, जिलाध्यक्ष पिंटू यादव, वरिष्ठ जिला उपाध्यक्ष मनोज वर्मा, जिला महासचिव संतनपाल सिंह व जिला कोषाध्यक्ष रवींद्र पाल समेत सैकड़ों रोजगार सेवक कलेक्ट्रेट पहुंचे और डीएम को ज्ञापन दिया। हालांकि रोजगार सेवकों के कलेक्ट्रेट पहुंचने की सूचना पर काफी पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया था। रोजगार सेवकों ने कहा कि प्रदेश सरकार गुंडागर्दी खत्म करने की बात कहती है, लेकिन पुलिस खुली गुंडई कर रही है। अनशनकारी रोजगार सेवकों के घरों पर जाकर गाली गलौज कर रही है। प्रशासन ने समस्या का समाधान के वजाय अनशन को कुचलने और अत्याचार की नीति अपना ली है। रोजगार सेवकों ने अनशनकारियों पर दर्ज मुकदमे वापस किए जाने, सत्रह माह का बकाया मानदेय दिलाए जाने की मांग की। ज्ञापन देने वालों में दाताराम, मुन्नालाल वर्मा, वीरपाल, सुधीर यादव, रामसिंह, रघुराम सिंह, वीरेंद्र, अशोक, रोहित, देवीदयाल, श्याम बिहारी, अनिल, कुलदीप, अक्षय मिश्रा आदि शामिल थे।

इस लेख/समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया लिखें-